आरपीएफ को मिलेंगी एके-47 और मशीनगन

आरपीएफ को मिलेंगी एके-47 और मशीनगन

नयी दिल्ली : ट्रेनों पर बढ़ रहे नक्सली और आतंकी हमलों को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने अत्याधुनिक हथियार सुरक्षा उपकरण तथा वाहन आदि खरीदने के लिए 81 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं. इन हथियारों और उपकरणों के आने के बाद रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की मारक क्षमता काफी बढ़ जाएगी.

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार 67 करोड़ रुपए हथियारों और उपकरणों के लिए स्वीकृत किए गए हैं. इनसे 3000 एके-47 राइफलें, एक हजार इन्सास राइफलें, 100 लाइट मशीनगन तथा सुरक्षा संबंधी अन्य उपकरण खरीदे जाएंगे, जबकि 14 करोड़ 26 लाख रुपए आरपीएफ अफसरों एवं जवानों के लिए वाहन खरीदने के लिए स्वीकृत किए गए हैं.

उक्त अधिकारी के अनुसार देश के 100 प्रमुख एवं संवेदनशील रेलवे स्टेश्नों पर बम निरोधक दस्ता तैनात करने पर भी विचार चल रहा है. इन स्टेशनों पर क्लोज सर्किट कैमरे एक्सरे मशीनें एवं अन्य आवश्यक उपकरण तो लगाए ही जाएंगे. पहले चरण में महानगरों के स्टेशनों को लिया जाएगा. दूसरे चरण में देश के अन्य प्रमुख स्टेशन लिए जाएंगे. यह 81 करोड़ रुपए की राशि उस 400 करोड़ की राशि से अलग है जो ‘एकीकृत सुरक्षा प्रणाली’ के लिए स्वीकृत की गई है. इस योजना के तहत वर्तमान निगरानी व्यवस्था को मजबूत किया जा रहा है. उल्लेखनीय है कि आरपीएफ में 25 हजार जवानों की भर्ती की घोषणा भी हो चुकी है.

Advertisements

3 Responses so far »

  1. 2

    बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

  2. 3

    बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…मेरे ब्लोग पर आपका स्वागत है। बहुत अच्छा लिखा है बधाई।


Comment RSS · TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: