रेल बजट से कंपनियां खुश

रेल बजट से कंपनियां खुश
नयी दिल्ली : रेलमंत्री ममता बनर्जी के रेल बजट में घोषित की गई पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप (पीपीपी) योजना से वैगन और कोच बनाने वाली कंपनियां काफी खुश हो गई हैं, क्योंकि उन्हें इस योजना के तहत अपने लिए असीम व्यावसायिक संभवानों नजर आ रही हैं। बमबार्डियर, टीटागढ़ वैगन्स, जीसॅप और टेक्समेको जैसी निजी क्षेत्र की बड़ी कंपनियां रेल बजट में घोषित डबल डेकर इंटरसिटी एसी कोचों को लाने और 18000 नये वैगनों के चालू वर्ष 2009-10 के दौरान रेलवे द्वारा खरीदे जाने की योजना से अत्यंत उत्साहित हो गई हैं और इसमें से ज्यादा से ज्यादा हिस्सा मिलने की उम्मीद कर रही है.
इस बारे में बमबार्डियर ट्रांसपोर्ट इंडिया के प्रबंध निर्देशक श्री राजीव ज्योति का कहना है कि विश्व स्तर पर हमारी कंपनी डबल डेकर कोच बनाने में अग्रणी है और जब भारत में डबल डेकर कोचों की यह प्रक्रिया शुरू होगी, हम इसके साथ ही खानपान सेवाओं में भी रेलवे की जरूरतों के मुताबिक अवश्य रुचि लेना चाहेंगे. उन्होंने बताया कि बमबार्डियर की निर्माण इकाई (फैक्टरी) बड़ोदरा, गुजरात में स्थापित है, जहां मेट्रो ट्रेनों के लिए कोचों का निर्माण किया जाता है. यदि भा. रे. से कंपनी को डबल डेकर कोचों का ऑर्डर मिलता है, तो यह कोच भी वड़ोदरा में बनाये जा सकेंगे, क्योंकि हमारे पास इसकी पर्याप्त सुविधा और ढांचा मौजूद है.
टीटागढ़ा वैगन्स के प्रबंध निर्देशक श्री उमेश चौधरी का कहना है कि वैगनों का ज्यादा से ज्यादा सप्लाई ऑर्डर पाने के साथ ही हमारी योजना रेलवे की पीपीपी योजनाओं में भी बड़े पैमाने पर भागीदारी करने की है. उन्होंने बताया कि इसके अलावा हमारी कंपनी ने ईएमयू एवं अन्य यात्री कोच बनाने शुरू कर दिए हैं तथा इस क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा प्रगति पर हम अपना ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि हमारी कंपनी टीटागढ़ वैगन्स, काचरापाड़ा, कोलकाता में स्थापित होने जा रही रेलवे कोच फैक्टरी में रेलवे के साथ संयुक्त उपक्रम के तहत यात्री कोचों के निर्माण सुविधा स्थापित करने के लिए प्रयास करेगी. उन्होंने बताया कि हम डंकुनी में लोकोमोटिव कमपोनेंट्स पार्क स्थापित करने तथा रेलवे की विश्वस्तरीय स्टेशन निर्माण योजनाओं में भी भागीदारी करने के प्रति अत्यंत उत्सुक हैं.
के.के. बिड़ला ग्रुप की कंपनी टेक्समेको, जो कि रेलवे के लिए विभिन्न प्रकार की मशीनों और फ्रेटकारों का निर्माण करती है, को भी रेलवे से अतिरिक्त बिजनेस मिलने की उम्मीद है. कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) श्री रमेश महेश्वरी को पूरी उम्मीद है कि रेलवे के विश्वस्तरीय स्टेशन प्रोजेक्ट में से काफी व्यवसायिक हिस्सा उनकी कंपनी को अवश्य मिलेगा. उन्होंने अपने इस विश्वास का आधार यह बताया कि उनकी कंपनी द्वारा पहले से ही दिल्ली स्टेशन के आधुनिकीकरण की योजना में काम किया जा रहा है और हम अब अन्य स्टेशनों के लिए भी बोली लगायेंगे. श्री महेश्वरी ने बताया कि हम काचरापाडा़ रेल प्रोजेक्ट के लिए अपनी ज्वाइंट वेंचर पार्टनर ऑस्ट्रेलिया की यूनाइटेड रेल की विशेषज्ञता को यात्री कोचों के निर्माण की इस महती योजना के लिए उपयोग में लायेंगे.
रुइया समूह की जीसॉप कंपनी के चेयरमैन श्री पी.के.रुइया ने कहा कि उनकी कंपनी वर्षों से रेलवे के लिए ईएमयू कोचों का निर्माण कर रही है. इसलिए उनकी कंपनी अपने दीर्घ अनुभव के बल पर इस क्षेत्र में अपना बिजनेस शेयर अवश्य हासिल करेगी. ज्ञातव्य है कि जीसॉप वैगन और कोच निर्माण क्षेत्र की एक पुरानी स्थापित एवं जानी मानी कंपनी है.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: